Antibiotic Action

प्रतिजैविक क्रियाशीलता स्वतन्त्रता पूर्वक एक वैश्विक कार्यवाही के रूप में २०११ में स्थापित हुआ,जो कि रोगाणुरोधी रसायन चिकित्सा के लिए ब्रिटिश सोसाइटी (बी. एस. ए. सी.) द्वारा वित्तपोषित है।  हम उपलब्ध प्रतिजैविक औषधियो के भविष्य  में प्रभाव तथा नई औषधियो और उनके विकास के तहत अन्य रोगाणुरोधी उपचार की कमी के  विषय में चिंतित हैं। प्रतिजैविक क्रियाशीलता संगठन  विश्व में जनसांख्यिकी समूहों – जनता, सरकार, स्वास्थय व्यवसायी, उद्यम एवम धर्मार्थ संगठनो की परवाह किये बिना हर किसी को  उपलब्ध सुझावों से सूचित करना एवम इनको अनुसन्धान, विनिमय एवं आर्थिक बाजारों में क्रियान्वित करने सम्बंधित विषय पर शिक्षित करता है, साथ ही अन्वेषण एवं विकास के साथ साथ जीवाणुरोधी संकमण के  नए उपचार के उत्तरदायी उपयोग को प्रोत्साहित कर  इसके उत्थान में अभिरुचि उत्पन्न करना है। प्रोफेसर लौरा नवी पीडॉक इसका नेतृत्व कर रही हैं जो की सामान्य जन  अनुबध में पथ प्रदर्शन की साथ ही बर्मिघम विश्वविदयिलय में सूक्ष्मजीव विज्ञान के  प्रोफेसर पद पर कार्यरत हैं। प्रतिजैविक औषधि जो की आधुनिक  चिकित्सा  का मुख्य आधार हैं, की आवश्यकता  अनुरूप उपलब्धता सभी देशो  के स्वास्थय के लिए महत्वपूर्ण हैं।

Share thisShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someone